NEWS/EVENTS
Changing Tax Structure in India and its Challenges Part - 2
Date –Dec 08, 2018
Duration – 8 hrs
Fee –  5500
Research Methodology and Data Analysis
Date –Dec 22, 2018
Duration – 8 hrs
Fee –  3500
Read More
  • Basic Level computer courses for Economical poor House wife (2nd Batch)

  • Child Computer literacy

  • Advance workshop on research methods, spss & research paper writing

  • Comprehensive Career & Counseling Programme



भारत के इतिहास एवम साहित्य में क्षत्रियो का योगदान

Interested in Event      Click Here

Registration Fee –  2500  per candidate
Duration – 8 hrs
Date – Aug 09, 2016
Venue -NEW DELHI

क्षत्रिय शब्द की व्युत्पत्ति की दृष्टि से अर्थ है जो दूसरों को क्षत से बचाये। क्षत्रिया, क्षत्राणी हिन्दुओं के चार वर्णों में से दूसरा वर्ण है। इस वर्ण के लोगों का काम देश का शासन और शत्रुओं से उसकी रक्षा करना माना गया है। भारतीय आर्यों में अत्यंत आरम्भिक काल से वर्ण व्यवस्था मिलती है, जिसके अनुसार समाज में उनको दूसरा स्थान प्राप्त था। उनका कार्य युद्ध करना तथा प्रजा की रक्षा करना था। ब्राह्मण ग्रंथों के अनुसार क्षत्रियों की गणना ब्राहमणों के बाद की जाती थी, परंतु बौद्ध ग्रंथों के अनुसार चार वर्णों में क्षत्रियों को ब्राह्मणों से ऊँचा अर्थात समाज में सर्वोपरि स्थान प्राप्त था। गौतम बुद्ध और महावीर दोनों क्षत्रिय थे और इससे इस स्थापना को बल मिलता है कि बौद्ध धर्म और जैन धर्म जहाँ एक ओर समाज में ब्राह्मणों की श्रेष्ठता के दावे के प्रति क्षत्रियों के विरोध भाव को प्रकट करते हैं, वहीं दूसरी ओर पृथक जीवन दर्शन के लिए उनकी आकांक्षा को भी अभिव्यक्ति देते हैं। क्षत्रियों का स्थान निश्चित रूप से चारों वर्णों में ब्राह्मणों के बाद दूसरा माना जाता था।


Our UGC LISTED Journals

International Research Journal of Commerce , Arts and Science International Research journal of Management Sociology & Humanities International Research journal of Management Science and Technology Bhartiya Bhasha, Siksha, Sahitya evam Shodh INTERNATIONAL RESEARCH JOURNAL OF SCIENCE ENGINEERING AND TECHNOLOGY INTERNATIONAL RESEARCH JOURNAL OF MEDICAL SCIENCES  AND INNOVATION